Hindi News Portal
धर्म

इन 10 कामों से रूठ जाती है किस्मत, नहीं बनता कोई काम, होती है धन हानि

क्या आपके साथ कई बार ऐसा होता है कि आपके बनते काम आखिरी समय में बिगड़ जाते हैं। ज्योतिषियों की मानें तो कभी-कभी ऐसा होता है कि आपकी कुंडली में कोई समस्या नहीं होती फिर भी आप परेशान होते हैं। वैसे तो आपके कर्म ही आपकी अच्छी और बुरी किस्मत के लिए जिम्मेदार होते हैं। ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी की मानें तो कुछ ऐसे काम भी होते हैं जिससे आपकी किस्मत आपसे रूठ जाती है। जब किस्मत किसी से रुठ जाती है तो राजा को भी रंक बना देती है। इसलिए कर्म जरूर करें लेकिन इन बातों का ध्यान अपने जीवन में जरूर रखें। आगे की स्लाइडों में पढ़ें ऐसी ही 10 बातों के बारे में:
1.घर में टूटे बर्तन: घर में टूटे बर्तन बिल्कुल न रखें। कहा जाता है कि इससे जीवन में दुर्भाग्य आता है। ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी के अनुसार टूटे बर्न और टूटी चीजें घर में रखने से राहु का नकारात्मक असर पड़ता है और लक्ष्मी जी ऐसे घर में नहीं आती।
2.खराब वस्त्र दान करने से: कभी भी खराब वस्त्र किसी को दान न करें। किसी को दान करना है तो अच्छे वस्त्र दान करने चाहिए। ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी के अनुसार दान देते समय कुछ नियमों का पालन करना चाहिए। गलत मंशा, सभी को बता कर और खराब चीजें दान करने से कोई फायदा नहीं होता है।
3.कभी भी किसी से मुक्त में कोई चीज न लें। कहा जाता है कि कभी भी किसी से कोई चीज या सेवा को फ्री में नहीं लेनी चाहिए। ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी के अनुसार कभी भी किसी की चीज या सेवा मुफ्त में नहीं लेनी चाहिए। इसका मूल्य जरूर चुकाना चाहिए। ऐसा करने से दुर्भाग्य आता है और अचानक धन में कमी आने लगती है। इसके लिए कोशिश करें कि गरीबों को भोजन कराएं और उन्हें उत्तम वस्त्र दान दें।
4. झूठे हाथों से किचन का सामान छूना: ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी के अनुसार झूठे हाथों से किचन का सामान छूने से घर में बरकत नहीं होती और लक्ष्मी जी नाराज होती है।
5.ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी की मानें तो गलत व्यवसाय वाले व्यक्ति के घर खाना नहीं खाना चाहिए। कहा जाता है कि इससे आपकी स्वभाव और आदते खराब हो जाती हैं। इसके अलावा गलत सोच वाले व्यक्ति के घर खाना खाने से रिश्तों में कड़वाहट आती है। जो व्यक्ति आपके लिए बुरी भावना रखता हो उसके घर खाना खाने से आपकी सेहत खराब हो सकती है।
6.चोरी किए वस्त्रों को पहनने से: ज्योतिषियों की मानें तो चोरी किए वस्त्रों को पहनने से आपका भी भाग्य चोरी हो जाता है। दरअसल कपड़े शुक्र का कारक होते हैं और चोरी किए हुए कपड़े पहनने से शुक्र ग्रह और मां लक्ष्मी दोनों रुष्ट हो जाते हैं।
7.खराब वस्त्र पहनना: अगर आपके पास अच्छे वस्त्र हैं और उसके बावजूद आप अच्छे वस्त्र नहीं पहनते यानी गंदे, बिना धुले और उधड़े हुए कपड़े पहनते हैं तो इससे किस्मत आपसे रूठ जाती है। ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी के अनुसार इससे लक्ष्मी जी नाराज हो जाती हैं और धन हानि होती है।
8.अपनी कलम किसी को नहीं देनी चाहिेए। कहा जाता है कि इससे आपको धन संबंधी हानि हो सकती है। इसलिए कलम का इस्तेमाल करते हैं तो ये सावधानी जरूर बरतें।
9.स्त्रियों का करें सम्मान: घर में रहने वाली स्त्रियों का अपमान करने वालों से लक्ष्मी और भाग्य दोनो रूठ जाते हैं। प्राचीन समय से कहा जाता है कि स्त्रियां घर की लक्ष्मी होती हैं। इसलिए उनका सम्मान करने से घर में खुशियां और बरकत दोनों आती हैं।
10.कर्ज जरूर उतारें: कभी भी दूसरों से पैसा उधार न लें। अगर जरूरत पड़ने पर लें भी तो कर्ज को समय पर चुका दें। किसी के पैसे का गलत तरीके से हड़पना नहीं चाहिए।
इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य व सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

 

 

http://www.livehindustan.com/

08 December, 2016

तृतीया और चतुर्थी का शुभ संयोग कल, भगवती कूष्माण्डा की उपासना-आराधना का विधान है. इस विधि से करें मां की अराधना, नोट कर लें पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त, आरती और मां का भोग
मां के तृतीय स्वरूप मां चंद्रघंटा और चतुर्थी तिथि पर मां के चतुर्थ स्वरूप मां कूष्माण्डा की पूजा- अर्चना की जाती है।
नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है जाने पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र, आरती और कथा
मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से व्यक्ति को अपने कार्य में सदैव विजय प्राप्त होता है
शारदीय नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाएगी जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और मंत्र।
मा शैलपुत्री नाम शैलपुत्री कैसे पडा जाने पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण माता का नाम शैलपुत्री पड़ा
ऋषि पंच ऋषि पंचमी का व्रत पापों का नाश करने वाला व श्रेष्ठ फलदायी है
सभी महिलाएं व कन्याएं पूरी श्रद्धा भ्क्ति के साथ करना चाहिये । आज के दिन सप्तऋषियों का पूर्ण विधि-विधान से पूजन कर कथा श्रवण करने का महत्व है।
एक ऐसा मंदिर जहां प्रतिमा ही नहीं है , फिर भी लकवे की बीमारठीक होती है और दर्शन करने वालों का लगता है तांता
मान्याता है कि यहां सात दिन व सात रातों तक नियमित रूप से आरती एवं परिक्रमा करने एवं तत्प श्चासत भभूत ग्रहण करने से मरीजों की परेशानी दूर हो जाती है ।