Hindi News Portal
लाइफस्टाइल

चावल का मांड पीने के है बेहतरीन लाभ, मिलेगी मोटापे सहित इन खतरनाक बीमारियों से निजात

गेंहू के साथ साथ चावल भी भारत का मुख्य खाद्य पदार्थ है। आमतौर पर लोग कुकर में चावल पकाने की अपेक्षा चावल को उबाल कर पानी निकाल कर खाना पसंद करते हैं, लेकिन ऐसे में लोग बहुत बड़ी गलती करते हैं और उबले पानी यानी मांड के रूप में चावल के सभी पौष्टिक तत्वों को फेंक देते हैं।

दरअसल उबले हुए चावल का पानी यानी मांड बहुत ही फायदमेंद पदार्थ है। यह सेहत के लिए बहुत लाभदायक है और कई गंभीर बीमारियों से बचाव करता है। यह सेहत के साथ साथ सुंदरता को भी निखारता है और बालों के लिए भी बेहद फायदेमंद है।
आइए जानते हैं कि चावल के मांड के क्या फायदे हैं.

चावल के मांड में शारीरिक ऊर्जा को बूस्ट करने यानी बढ़ाने का माद्दा है। मांड में विटामिन बी, सी और ई की प्रचुरता है और ये सभी विटामिन शरीर की थकान को दूर कर शरीर को चुस्त दुरुस्त बनाने में मदद करते हैं।

मौसम के अनुसार होने वाले वायरल बुखार में चावल का मांड दवा की तरह काम करता है। अगर वायरल हो गया है तो चावल का गर्मागर्म मांड नमक डालकर पिलाने से फायदा पहुंचता है। इससे शरीर में पानी की कमी पूरी होती है और बुखार के चलते कमजोर हुई प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है। इससे बुखार जल्द खत्म होता है और शरीर को पोषण मिलता है


चावल का मांड पीने से शरीर में खून का संचार बेहतर तरीके से होता है। इतना ही नहीं यह शरीर के तापमान को भी संतुलित रखने में अहम भूमिका निभाता है। जिन लोगों को लो ब्लड प्रेशर की समस्या होती हैं, उन्हें नमक डालकर चावल का मांड पिलाने से ये समस्या खत्म हो जाती है।

चावल के मांड से से पाचन क्रिया बढ़िया रहती है और पेट की अपच भी खत्म हो जाती है। चावल के मांड में फाइबर की प्रचुरता रहती है और इसी वजह से इसका सेवन करने से मेटाबॉलिज्म बेहतर रहता है। गांव देहात में आज भी बड़ों और बच्चों को दस्त होने पर चावल का मांड पिलाया जाता है जिससे दस्त ठीक हो जाते हैं।

चावल के मांड का सेवन करने से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की आशंका घट जाती है।
अगर आपके बाल सफेद हो रहे हैं और झड़ रहे हैं। इनकी चमक कम हो रही है तो बाल धोने के बाद चावल के मांड का लेप प्रयोग करें। इससे बाल मजबूत होंगे औऱ इनमें चमक आएगी। तो इनकी जड़ों में चावल के मांड का लेप करना चाहिए।

त्वचा अगर सूरज की अल्ट्रावायरट किरणों को सहन नहीं कर पाती और त्वचा पर इंफेक्शन हो रहा है तो चावल के मांड को चेहरे पर लगाइए। दरअसल चावल के मांड में अल्ट्रा वायलट किरणों का प्रभाव कम करने वाला ओरिजेनॉल तत्व पाया जाता है

 

 

 

सौजन्य : इंडिया टीवी

 

21 November, 2019

पारसी समुदाय के लिए गुड न्यूज! Jiyo Parsi scheme का दिखाई दे रहा असर
साल 2011 में देश में पारसी समुदाय की कुल जनसंख्या 57000 थी। Jiyo Parsi scheme साल 2013-14 में शुरू की गई थी। अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय द्वारा समर्थित इस योजना में इस साल 22 अतिरिक्त जन्म हुए हैं, जिसमें नवजात शिशुओं की संख्या जून तक 321 है।
अजीबोगरीब परंपरा आपको हैरान कर देगी कि ये जनजाति के लोग मरने के बाद लाशों को खा जाते है
एंडो-केनिबलवाद जनजाति में अंतिम संस्कार करने का तरीका बड़ा ही अजीबोगरीब है. यह जनजाति अपनी ही जनजाति के मृतकों के मांस खाने परम्परा है
जब ऊपर वाला देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है , एक ही नंबर पर 2 बार लॉटरी लगी
अमेरिका के रहने वाले जेफ्री डेमार्को ने 12 सितंबर को लॉटरी के ये टिकट खरीदे थे। उनका जो नंबर था वह था 1-8-12-21-27, और उन्होंने उसके 2 टिकट लिए थे।
1902 के बाद पहली बार दुधवा नेशनल पार्क में दिखाई दिया दुर्लभ ऑर्किड का पौधा
उत्तर प्रदेश के दुधवा नेशनल पार्क में 'लुप्तप्राय प्रजातियों' के श्रेणी में रखा गया एक दुर्लभ ऑर्किड पौधे की किस्म पाई गई है, जिस पर खूबसूरत फूल लगे थे।
आपके मतलब की बात: कोरोना से बचने के लिए कौन सा हैंड सैनिटाइजर लेना फायदेमंद
क्या आपने कभी खरीदने से पहले ध्यान दिया है कि खरीदा गया हैंड सैनिटाइजर एल्कोहल बेस्ड है या नॉन एल्कोहल बेस्ड?