Hindi News Portal
लाइफस्टाइल

वास्तु टिप्स: तुलसी में रविवार सहित इन दिनों में न चढ़ाए जल, माना जाता है अशुभ

वास्तु शास्त्र में आज आचार्य इंदु प्रकाश से जानें तुलसी के पौधे से जुड़ी कुछ अन्य महत्वपूर्ण बातों के बारे में। प्राचीन काल से ही घरों में तुलसी का पौधा लगाने की और उसको प्रतिदिन जल चढ़ाने की परंपरा चली आ रही है. लेकिन कुछ ऐसे खास दिन भी होते हैं जब तुलसी को जल नहीं चढ़ाना चाहिए. किस-किस दिन तुलसी को जल नहीं चढ़ाना चाहिए इसके बारे में हम आपको बता देते हैं।

प्रत्येक रविवार, एकादशी और सूर्य व चंद्र ग्रहण के समय तुलसी को जल नहीं चढ़ाना चाहिए। साथ ही इन दिनों में और सूर्य छिपने के बाद तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए. ऐसा करने से वास्तु दोष लगता है। साथ ही जो व्यक्ति वीरवार के दिन तुलसी के पौधे में कच्चा दूध डालता है और रविवार को छोड़कर प्रतिदिन शाम को घी का दीपक जलाता है, उसके घर में सदा लक्ष्मी जी का वास रहता है। इसके अलावा घर में कभी भी सूखा तुलसी का पौधा नहीं रखना चाहिए। यह अशुभ माना जाता है। ऐसे पौधे को कुएं या किसी पवित्र स्थान पर बहा देना चाहिए और नया पौधा लगाना चाहिए।

 

 


सौजन्य : इंडिया टीवी

 

 

 

27 February, 2020

भोपाल में दीपक और आशा ने बेटे के जन्म की खुशी में दवात पर 200 किन्नरों को बुलाकर भोज कराया ,किन्नरों ने बधाई गाई
अलग-अलग इलाकों में रहने वाले 100 से अधिक किन्नरों को अपने यहा आने की दावत दी
यह औरत केवल शादीशुदा पुरुषों से ही संबंध बनाती है कारण की ?
लंदन में रहने वाली एक मशुहर पूर्व मॉडल जो केवल सिर्फ शादीशुदा मर्दो से ही संबंध बनाती है. और कई पुरुष को अपना शिकार बना चुकी है
आज विश्वर सिंह दिवस है, उपराष्ट्रकपति और प्रधानमंत्री ने शेरों के संरक्षण के लिए काम कर रहे लोगों को शुभकामनाएं दी
यह सभी के लिए खुशी की बात है कि पिछले कुछ वर्षों से भारत में शेरों की संख्या में वृद्धि हो रही है
Time Traveller की भविष्यवाणी: अगले साल धरती पर आएंगे विशाल Aliens, US बनाएगा निशाना और छिड़ जाएगी जंग
एलियंस (Aliens) के अस्तित्व को लेकर अब तक भले ही कोई ठोस जानकारी सामने न आई हो, लेकिन दावे जरूर होते रहते हैं. अब खुद को टाइम ट्रैवलर बताने वाले एक शख्स ने भी एलियंस पर भविष्यवाणी की है. इस शख्स का कहना है कि सात फुट ऊंचे एलियंस अगले साल धरती पर आने वाले हैं.
पारसी समुदाय के लिए गुड न्यूज! Jiyo Parsi scheme का दिखाई दे रहा असर
साल 2011 में देश में पारसी समुदाय की कुल जनसंख्या 57000 थी। Jiyo Parsi scheme साल 2013-14 में शुरू की गई थी। अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय द्वारा समर्थित इस योजना में इस साल 22 अतिरिक्त जन्म हुए हैं, जिसमें नवजात शिशुओं की संख्या जून तक 321 है।