Hindi News Portal
स्वास्थ

आ गया कोरोना वायरस को 'खत्म' करने वाला मास्क, जानिए इसकी खासियत

नयी दिल्ली: कोरोना महामारी की दूसरी लहर से पूरी दुनिया परेशान है। इस लहर में दुनिया भर में कोरोना वायरस के कई वैरिएंट सामने आए हैं। हालांकि इस बीच अच्छी खबरें भी सामने आ रहीं हैं। पुणे की एक स्टाआर्ट-अप फर्म ने खास तरह का मास्के तैयार किया है। यह थ्रीडी प्रिंटिंग और दवाओं के सम्मिश्रण से तैयार किया गया मास्क अपने संपर्क में आने वाले विषाणुओं को निष्क्रिय कर देता है।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) ने बताया कि थिंक्र टेक्नॉलोजी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा विकसित इन मास्कों पर विषाणु रोधक एजेंट का लेप होता है। वैसे ये एजेंट विषाणुनाशक कहलाते हैं। डीएसटी ने बताया कि परीक्षण करके दर्शाया गया कि यह लेप सार्स-कोव-2 को निष्क्रिय कर देता है। विभाग के अनुसार लेप में उपयोग लायी गयी सामग्री सोडियम ओलेफिन सल्फोनेट आधारित मिश्रण है, यह साबुन संबंधी एजेंट है।
विभाग ने बताया कि जब वायरस लेप के संपर्क में आता है तो उसकी बाहरी झिल्ली नष्ट हो जाती है। लेप की सामग्री सामान्य तापमान पर स्थिर होती है और उसका सौंदर्य प्रसाधनों में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है। डीएसटी ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ जंग के तहत विषाणुनाशक मास्क पहल प्रौद्योगिकी विकास बोर्ड द्वारा वाणिज्यीकरण के लिए चुनी गयी शुरुआती परियोजनाओं में एक है। यह बोर्ड विभाग के अंतर्गत एक सांविधिक निकाय है।

थिंक्र टेक्नॉलोजी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के संस्थापक निदेशक शीतलकुमार जामबाद ने कहा, ‘‘हमने महसूस किया कि मास्क संक्रमण रोकने में सार्वभौमिक रूप से एक बड़ा औजार बन जाएगा लेकिन उस समय उपलब्ध और आम लोगों की पहुंच में आने वाले ज्यादातर मास्क घर में बने और अपेक्षाकृत कम गुणवत्ता के थे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे में उच्च गुणवत्ता की मास्क बनाने की जरूरत ने हमें परियोजना को हाथ में लेने को प्रेरित किया ।यह संक्रमण को फैलने से रोकने की एक बेहतर पहल थी।’’

 

 

सौजन्य : इंडिय टीवी

फ़ाइल फोटो 

 

 

15 June, 2021

कैंसर के इलाज में भारतीय वैज्ञानिकों को मिली बड़ी उपलब्धि
दवाइयों के अलावा इसके उपचार में रेडियोथेरेपी और कीमोथेरेपी प्रमुख है। इसके उपचार में भारतीय वैज्ञानिकों को एक और सफलता मिली है
आ गया कोरोना वायरस को 'खत्म' करने वाला मास्क, जानिए इसकी खासियत
कोरोना महामारी की दूसरी लहर से पूरी दुनिया परेशान है। इस लहर में दुनिया भर में कोरोना वायरस के कई वैरिएंट सामने आए हैं। हालांकि इस बीच अच्छी खबरें भी सामने आ रहीं हैं। पुणे की एक स्टार्ट-अप फर्म ने खास तरह का मास्क तैयार किया है।
कोविड-19 टीकाकरण तैयारियाँ पूरी , टीकाकरण दलों के प्रशिक्षण पर ध्यान दें : डॉ. चौधरी
राज्य स्तर पर बनाये गये कंट्रोल रूम से पूरे प्रदेश में होने वाले टीकाकरण अभियान पर लगातार नजर रखी जायेगी
मुंबई ; कोविशील्ड वैक्सीन का “किंग एडवर्ड मेमोरियल हॉस्पिटल “ में मानव परीक्षण प्रक्रिया शुरू
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन को विकसित किया गया है और भारत में पुणे की सीरम इंस्टिट्यूट इसे तैयार कर रही है.
मुर्गियों से नहीं फैलता कोरोना कुक्कुट उत्पादों का सेवन सुरक्षित है।
चिकन और अंडे मनुष्यों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते है