Hindi News Portal
खेल

फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह नही रहे 91 साल की उम्र में कोरोना से निधन, 5 दिन पहले ही उनकी पत्नी का निधन हो गया था

भारत के महान फर्राटा धावक मिल्खा सिंह का एक महीने तक कोरोना संक्रमण से जूझने के बाद शुक्रवार को निधन हो गया । पांच दिन पहले उनकी पत्नी और भारतीय वॉलीबॉल टीम की पूर्व कप्तान निर्मल कौर ने भी कोरोना संक्रमण के कारण उन्होने दम तोड़ दिया था। पद्मश्री मिल्खा सिंह 91 वर्ष के थे।उनके परिवार में उनके बेटे गोल्फर जीव मिल्खा सिंह और तीन बेटियां हैं । उन्होंने रात 11:30 पर आखिरी सांस ली।’’
फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह ने कहा था- नहीं जानता था कि ओलिंपिक गेम्स होते क्या हैं, एशियन गेम्स और 100 मीटर और 400 मीटर रेस क्या होती है? उन्होने बतया था कि जब वे दौड़ते थे तब उनके पैरों में जूते नहीं होते थे। न ही ट्रैक सूट होता था। न कोचेस थे और न ही स्टेडियम।
फ्लाइंग सिख ने कहा था कि मैं और मेरी पत्नी निर्मल कौर दोनों स्पोटर्स पर्सन रहे हैं। वे वॉलीबॉल टीम की नेशनल कैप्टन थीं। हम नहीं चाहते थे कि हमारा बेटा जीव मिल्खा सिंह स्पोर्ट्स में जाए। मैं, मेजर ध्यानचंद और लाला अमरनाथ (क्रिकेटर) साथ के ही थे। मुझे लाला अमरनाथ बताते थे मैच खेलने के दो रुपए मिलते थे। मेरा भी वही हाल था, पैसे तो थे नहीं।

मिल्खा सिंह ने कहा कि हमने तय किया बेटे को कोई प्रोफेशनल डिग्री दिलाएंगे। डॉक्टर, इंजीनियर वाली, मगर स्पोर्ट्स नहीं। मैं उसे शिमला के स्कूल में भेजना चाहता था, ताकि उसका ध्यान खेलों में न जाए। मगर कुछ और ही होना लिखा था शायद। एक बार स्कूल की तरफ से जूनियर गोल्फ में उसने (जीव मिल्खा) नेशनल जीता। फिर इंटरनेशनल के लिए लंदन और अमेरिका गया। 4 बार यूरोप की चैंपियनशिप जीती और फिर उसे पद्मश्री मिल गया।
उनका जन्म 20 नवंबर 1929 को गोविंदपुरा (जो अब पाकिस्तान का हिस्सा है) के एक सिख परिवार में मिल्खा सिंह का जन्म हुआ था। खेल और देश से बहुत लगाव था, इस वजह से विभाजन के बाद भारत भाग आए और भारतीय सेना में शामिल हुए थे।
1956 में मेलबर्न में आयोजित ओलिंपिक खेल में भाग लिया। लेकिन वे कोई पदक प्राप्त नही कर पाये थे । 1958 में कटक में आयोजित नेशनल गेम्स में 200 और 400 मीटर में कई रिकॉर्ड बनाए। इसी साल टोक्यो में आयोजित एशियाई खेलों में 200 मीटर, 400 मीटर की स्पर्धाओं और राष्ट्रमंडल में 400 मीटर की रेस में स्वर्ण पदक जीते। उनकी सफलता को देखते हुए, भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया।

 

 

19 June, 2021

तोक्यो ओलंपिक भारतीय पुरूष हॉकी की अच्छी शुरुआत न्यूजीलैंड को 3-2 से हराया
भारतीय पुरूष हॉकी टीम ने गोलकीपर पी आर श्रीजेश के शानदार प्रदर्शन मदद से न्यूजीलैंड को 3-2 से हराकर तोक्यो ओलंपिक में जीत का आगज किया
विश्व पटल पर मध्यप्रदेश के खिलाड़ी देश और प्रदेश का नाम दर्ज करायेंगे: मुख्यमंत्री चौहान
मुख्यमंत्री ने शुभकामनाएँ देते हुऐ कहा "जीत हमारी हर नस में, आये यहाँ जो करने वो करके हम दिखलाएंगे, जीत की बाजी खेले हम और दिल को भी जीत के आएंगे"।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दी टोक्यो जाने वाले खिलाड़ियों को सलाह- अपेक्षाओं के बोझ तले दबने की जरूरत नहीं ,देश की जनता की और से शुभकामनाएं आपके साथ है ।
देशभर से लोग नमोएप के ज़रिए अपने प्रिय खिलाडि़यों को शुभकामनाएं दे रहे हैं
टी-20 विश्व कप का आयोजन यूएई में किया जाएगा : BCCI की घोषणा
बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने घोषणा की है की आगामी टी-20 विश्व कप आयोजन अब यूएई में किया जाएगा।
फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह नही रहे 91 साल की उम्र में कोरोना से निधन, 5 दिन पहले ही उनकी पत्नी का निधन हो गया था
मिल्खा सिंह ने कहा कि हमने तय किया बेटे को कोई प्रोफेशनल डिग्री दिलाएंगे। डॉक्टर, इंजीनियर वाली, मगर स्पोर्ट्स नहीं बनायेगे