Hindi News Portal
देश

देश के सीमावर्ती इलाकों एंटी ड्रोन स्वदेशी सिस्टम जल्द में लगाया जाएगा : अमित शाह

नई दिल्ली : सीमा सुरक्षा बल के 18वें अलंकरण समारोह के अवसर गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मुझे विश्वाषस है कि देश के अर्ध-सैनिक बल सीमाओं की सुरक्षा के लिए किसी भी चुनौती का सामना करने में सक्षम हैं। और देश के सीमावर्ती क्षेत्रों में जल्दीा ही स्वेषदशी ड्रोन प्रणाली तैनात कर दी जाएगी। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन तथा अन्यज संबंधित एजेंसियां इस पर काम कर रही
शाह ने कहा कि नरेन्द्रन मोदी सरकार ने देश के सीमावर्ती इलाकों में बुनियादी ढांचे की मजबूती को उच्च प्राथमिकता दी है। उन्होंरने कहा कि प्रधानमंत्री का मानना है कि अगर इन इलाकों में बुनियादी ढांचा मजबूत नहीं रखा गया तो देश की सीमाएं सुरक्षित नहीं रह पाएंगी।
शाह ने पिछली यू पी ए सरकार के दौरान हुए कामकाज से तुलना करते हुए कहा कि वर्ष 2008 से 2014 की अवधि में सीमा पर केवल 3 हजार छह सौ किलामीटर के मुकाबले मोदी सरकार ने अब तक चार हजार 764 किलोमीटर सड़कें बनाई हैं।

बताया  कि अर्धसैनिक बलों की आवाजाही को सहज बनाने के लिए यूपीए सरकार के शासन काल में केवल एक सुरंग बनायी गई थी, जबकि मोदी सरकार अब तक छह सुरंगें बना चुकी है और 19 सुरंगों का निर्माण कार्य चल रहा है। 

 

 फ़ाइल फोटो 

18 July, 2021

कृषि कानून के मुद्दे पर सरकार हमेशा ही किसान संघों के साथ सरकार बातचीत करती रही है।
किसान संगठन केवल कृषि कानूनों को वापस लेने पर जोर देते रहे हैं
प्रधानमंत्री की भाजपा सांसदों को राय विपक्ष के व्दारा देश में कोविड की भ्रामक जानकारी को दुर कर उसका जबाव दे
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी के सांसदों से कहा कि विपक्ष के भ्रामक प्रचार का डटकर मुकाबला करें।
आई सी एम आर के सीरो सर्वे- 4 के अनुसार देश की लगभग 40 करोड जनसंख्या में कोविड एंटीबॉडी पायी गई
देश के 28 हजार से अधिक लोगों के और सात हजार से अधिक स्वा स्य् क कर्मियों पर सर्वे किया गया
बहुत पुराने वाहनों को संरक्षित करने के उद्देश्य से पंजीकरण प्रक्रिया को औपचारिक रूप दिया गया- नितिन गडकरी
सुविधा पचास वर्ष से अधिक पुराने ऐसे दुपहिया और चौपहिया वाहनों के लिए होगी
देश के सीमावर्ती इलाकों एंटी ड्रोन स्वदेशी सिस्टम जल्द में लगाया जाएगा : अमित शाह
देश के सीमावर्ती इलाकों में बुनियादी ढांचे को मजबूत नहीं रखा गया तो देश की सीमाएं सुरक्षित नहीं रह पाएंगी।