Hindi News Portal
भोपाल

सीएम राइज स्कूलों के लिए शिक्षक चयन प्रक्रिया समय पर पूर्ण करें ; मुख्यमंत्री

भोपल : मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सीएम राइज स्कूल एक महत्वाकांक्षी योजना है। इसके क्रियान्वयन के लिए योग्य शिक्षकों का चयन किया जा रहा है। शिक्षा की गुणवत्ता को ध्यान में रखते हुए शिक्षक प्रशिक्षण का कार्य भी पूरी गंभीरता से किया जाए। प्रथम चरण में प्रदेश में अप्रैल 2022 से प्रारंभ होने वाले शिक्षण-सत्र में कक्षा एक से 12वीं तक शिक्षण व्यवस्था वाले 350 सीएम राइज स्कूल प्रारंभ होंगे। इसके लिए आवश्यक बजट व्यवस्था भी कर ली गई है। मुख्यमंत्री आज सीएम राइज स्कूल योजना के अंतर्गत प्रारंभ की गई गतिविधियों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री चौहान ने योजना से संबंधित विशेषताओं पर भी चर्चा की। चौहान ने विद्यालयों के प्राचार्यों के लिए तैयार की गई हैंड बुक का विमोचन किया। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन स्कूलों में लैब, कम्प्यूटर और लायब्रेरी की व्यवस्था की जा चुकी है, वहाँ अप्रैल 2022 से सीएम राइज स्कूल प्रारंभ किये जाएँगे। इस क्रम में भोपाल के रशीदिया विद्यालय को मॉडल सीएम राइज स्कूल के रूप में विकसित किया गया है। मुख्यमंत्री शीघ्र ही इसका अवलोकन भी करेंगे। उन्होने ने कहा कि शिक्षकों के प्रशिक्षण और भवनों के निर्माण तथा अन्य व्यवस्थाओं को समय पर पूरा किया जाए। आगामी शिक्षण-सत्र से विद्यालयों के प्रारंभ होने का कार्य शुरू हो जाएगा। लक्ष्य यह हो कि दो वर्ष में सभी विद्यालय प्रांरभ हो जाएँ।

प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी ने बताया कि सीएम राइज स्कूल योजना में 22 हजार 254 शिक्षकों के आवेदन पत्र प्राप्त हुए हैं। उत्कृष्ट शिक्षा के लिए विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित शिक्षकों का साक्षात्कार आयोजित कर चयन किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में 9 हजार 200 सुविधायुक्त सीएम राइज स्कूल प्रारंभ किए जाने हैं। प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में 25-30 किलोमीटर परिधि में इनकी व्यवस्था होगी। इन स्कूलों में एक ही शिक्षण परिसर में केजी से लेकर 12वीं तक की कक्षाओं के बच्चे पढ़ेंगे। सीएम राइज स्कूल के प्राचार्यों को स्कूल विकास के नेतृत्व, अनुकरणीय शिक्षण अधिगम प्रक्रियाओं के नेतृत्व, शिक्षकों के विकास और सशक्तिकरण, समुदाय से जुड़ाव और प्रशासनिक प्रक्रियाओं तथा संसाधनों के प्रबंधन की दृष्टि से दक्ष बनाया जाएगा। प्राचार्य प्रशिक्षण नवम्बर माह से प्रारंभ होगा। इसके बाद राजधानी में इनका राज्य स्तरीय ओरिएंटेशन और भारतीय प्रबंध संस्थान में प्रशिक्षण भी होगा। यही नहीं इन प्राचार्यों को अन्य राज्य के स्कूलों का भ्रमण भी करवाया जाएगा।

बैठक में आयुक्त जनसंपर्क डॉ. सुदाम खाड़े, आयुक्त जनजातीय कार्य संजीव सिंह, उप सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती अनुभा श्रीवास्तव, संचालक राज्य शिक्षा केन्द्र धनराजू एस. और संचालक लोक शिक्षण उपस्थित थे।

 

12 October, 2021

वर्षा से प्रभावित फसलों की क्षति का सर्वे कराकर सहायता राशि दी जायगी : मुख्यमंत्री
प्रभावित क्षेत्रों में फसलों की क्षति के सर्वे के निर्देश दिए गए
कृषि और घरेलु उपभोक्ताओं को बिजली के नए टैरिफ दरों में राज्य सरकार की सब्सीडी देने के ऊर्जा विभाग के प्रस्ताव को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है
विद्युत दरों में 20 हजार करोड़ रूपये से अधिक की सब्सिडी , गरीब जनजाति परिवारों आदिवासी विकासखण्डों की उचित मूल्य दुकानों के आश्रित ग्रामों के पात्र परिवारों को उनके घर मिलेगा
आत्म-निर्भर म.प्र. में बेटियों की भी सहभागिता होगी : मुख्यमंत्री चौहान
प्रदेश की हर बेटी शिक्षित हो, उसका स्वास्थ्य बेहतर रहे और वह अपने आप को आत्म-निर्भर महसूस करें।
मुख्यमंत्री, प्रदेश अध्यक्ष, राष्ट्रीय महासचिव, सहित पार्टी नेताओं ने फहराया विजय संकल्प ध्वज
चुनाव प्रबंध समिति के संयोजक ने मीडिया को बताया- सभी 3067 बूथों पर हुआ ध्वजारोहण
मुख्यमंत्री निवास मै दशहरा पर पूजा-अर्चना और रावण के पुतले का दहन किया
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दशहरा के अवसर पर वाहन पूजा की गई और रावण दहन भी किया गया ।