Hindi News Portal
राजनीति

कमलनाथ बूढ़े तो हो गए पर दुर्भाग्य से बड़े तो नहीं हो पाए : सबनानी

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा पर की गयी टिप्पणी को मर्यादाहीन और उनके मानसिक दिवालिएपन का प्रतीक बताया है। उन्होंने कहा कि कमलनाथ आयु से बूढ़े तो हो गए है लेकिन संस्कारों की दृष्टि से बड़े नहीं हो पाए। यह दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि कमलनाथ कभी महिलाओं को सजावट का सामान बताते हैं तो कभी मरे हुए लोगों से बातचीत का करतब दिखाते हैं। वर्तमान मध्यप्रदेश को 15 महीने तक बर्बाद करने का कारण यदि कोई है तो वह कमलनाथ हैं। लूट और भ्रष्टाचार में डूबे कमलनाथ की मीमांसा यदि हम करेंगे तो कमलनाथ को बहुत तकलीफ होगी।
सबनानी ने कहा कि कमलनाथ वह व्यक्ति हैं जिनके इस आयु में भी ऐसे-ऐसे चित्र मीडिया और सोशल मीडिया में प्रसारित होते हैं जो सामाजिक मर्यादाओं के अनुरूप नहीं होते। यह चित्र कमलनाथ के चरित्र का चित्रण है। अच्छा होगा कमलनाथ अपने बौद्धिक विलास को विराम दें। कमलनाथ यह सही कह रहे हैं कि वे उनकी आयु भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष की आयु से बहुत अधिक है। हम गर्व के साथ यह कह सकते हैं कि कमलनाथ की समझ हमारे अध्यक्ष की अपेक्षा बहुत कमजोर है। अगर कमलनाथ इतने ही बुद्धिमान और कुशल होते तो अपनी ही सरकार की भ्रूण हत्या नहीं कराते।

 

13 October, 2021

कांग्रेस हक छीनने वाली और योजना बंद करने वाली पार्टी : शिवराज सिंह चौहान
मुख्यमंत्री ने चुनावी सभा में कहा-कांग्रेस में ही पानी नहीं बचा तो जनता को क्या देंगे
जनजातीय समाज का कल्याण ही शिवराज सरकार का ध्येय : विष्णुदत्त शर्मा
सरकार जनजातीय बहुल क्षेत्रों में 15 नवंबर से सिकल सेल एनीमिया जैसी बीमारी के निदान के लिए मिशन शुरू करेगी।
बीजेपी पार्टी मुख्यालय में जेपी नड्डा की अध्यक्षता में पदाधिकारियों की बैठक
भाजपा के राष्ट्री य अध्यरक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने कोविड-19 महामारी के दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं द्वारा किये गये कार्यो की सराहना की
आगामी 21 अक्टूबर को दीपक से कमल’ की थीम पर जनसंघ का स्थापना दिवस मनाएगी पार्टी : भूपेंद्र सिंह
बूथ स्तर तक होंगी संगोष्ठी, कार्यकर्ता व स्व सहायता समूहों के होंगे सम्मेलन
कमलनाथ हैलीकॉप्टर घोटाले में दलाली ली या नहीं, प्रदेश की जनता को जवाब दें : विष्णुदत्त शर्मा
कांग्रेस की 15 महीनों की सरकार में जिस स्तर का भ्रष्टाचार हुआ, उसे देखते हुए पार्टी के कई नेताओं ने भाजपा में शामिल होना ही ठीक समझा