Hindi News Portal
विदेश

कोविड 19 की चौथी लहर की आंकाशा के चलते अमरीका ने अपने नागरिकों को जर्मनी और डेनमार्क की यात्रा नही करने की सलाह दी

यूरोप में कोरोना संक्रमण के बढते मामलों को देखते हुए अमरीका ने अपने नागरिकों को जर्मनी और डेनमार्क की यात्रा न करने की सलाह दी है। अमरीकी विदेश विभाग ने कल नागरिकों को यह चेतावनी दी थी कि बढते कोविड 19 संक्रमण के कारण जर्मनी की यात्रा न करें। अमरीका के रोग नियंत्रण और रोकथाम केन्द्रक की सलाह पर यह परामर्श जारी किया गया है। इस केन्द्रक का कहना है कि जर्मनी में मौजूदा स्थिति के कारण पूरी तरह से टीकाकरण वाले यात्रियों को भी कोविड-19 के वेरिएंट से संक्रमित होने और इसे फैलाने का खतरा हो सकता है।
जर्मनी, यूरोपीय संघ का सबसे अधिक आबादी वाला देश है जो इस समय महामारी की चौथी और सबसे गंभीर लहर से जूझ रहा है। यहां कल 30 हजार 643 नए मामले सामने आए और अस्प तालों में आई सी यू कोविड रोगियों से भरे हैं। जर्मनी में अब तक 68 प्रतिशत आबादी का ही पूर्ण टीकाकरण हुआ है।
डेनमार्क, बेल्जियम, क्रोएशिया, हंगरी, ऑस्ट्रिया और नीदरलैंडस को भी सीडीसी की उच्चतम स्तर लेवल-4 की चेतावनी जारी की गई है।

 

 


फ़ाइल फोटो

24 November, 2021

कोविड 19 की चौथी लहर की आंकाशा के चलते अमरीका ने अपने नागरिकों को जर्मनी और डेनमार्क की यात्रा नही करने की सलाह दी
जर्मनी, यूरोपीय संघ का सबसे अधिक आबादी वाला देश है जो इस समय महामारी की चौथी और सबसे गंभीर लहर से जूझ रहा है।
कोरोना वायरस की चौथी लहर का खतरा ! इस देश में फिर से लगाया जाएगा लॉकडाउन
ऑस्ट्रिया ने शुरु में केवल उन लोगों के लिए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की शुरुआत की थी, जिनका वैक्सीनेशन नहीं हुआ है लेकिन संक्रमण के मामले बढ़ने पर सरकार ने सभी के लिए इसे लागू कर दिया।
रोम , जी20 शिखर सम्मेअलन मै प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्पेदन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज से मुलाकात की
मोदी ने सम्मेालन मै कहा कि भारत अगले वर्ष के अंत तक पांच अरब टीके बनाने के लिए तैयार है।
इंडोनेशिया के पूर्व राष्ट्रपति सुकर्णो की बेटी सुकमावती सुकर्णोपुत्री ने इस्लाम छोड़कर अपनाया हिंदू धर्म
रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह समारोह सुकमावती के 70वें जन्मदिन पर कड़ी सुरक्षा के बीच हुआ और कोविड के कारण इसमें सिर्फ 50 मेहमान ही शामिल हुए।
चीन ने 23 अक्टू बर को एक नया भूमि सीमा कानून पारित किय जाने पर भारत ने चिंता व्यक्त की
भारत और चीन ने अभी सीमा से संबंधित मुद्दों का समाधान नहीं किया है