Hindi News Portal
स्वास्थ

घी मै भुनकर मखाने खाने से और कीतनी मात्रा मै खाना चाहिये जाने नही तो पेट की गंभीर बीमारी हो सकती ।

अगर आप हद से ज्यादा मखाना खाते हैं तो आज से ही छोड़ दीजिए क्योंकि यह मुफ्त में आपको पेट की कई सारी बीमारी दे सकता है. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि अक्सर लोग व्रत, शाम के स्नैक्स में मखाना खाते हैं. जिन लोगों को पता है कितनी मात्रा में खाना है उनके लिए कोई बात नहीं लेकिन जिन्हें मखाना बहुत पसंद है और वह खाते वक्त मात्रा नहीं देखते उन लोगों के लिए यह आर्टिकल खास है.
आइए जानते हैं क्यों कहा जाता है ज्यादा मात्रा में मखाना क्यों नहीं खाना चाहिए?
मखाने में फाइबर की मात्रा अधिक होती है. साथ ही इसमें सोडियम कम होता है.लेकिन इसमें मैंगनीज, पोटेशियम, मैग्नीशियम, थियामिन, प्रोटीन और फास्फोरस जैसे तमाम गुण भरपूर होते हैं. इसलिए कहा जाता है मखाना खाने के जितने फायदे हैं उतना ही नुकसान भी है. खासकर जिन लोगों को पेट की दिक्कत अक्सर रहती है. पेट साफ नहीं रहता है उन लोगों को फाइबर युक्त मखाना पचाने में कई तरह की दिक्कत हो सकती है. अगर आपका पेट है कमजोरआपको किसी भी चीज को पचाने में खासा दिक्कत होती है. तो आपको मखाना खाने से बचना चाहिए. ये मखाना पेट के लिए काफी भारी होता है. क्योंकि मखाने में जो फाइबर होता है उसे पचाने के लिए पेट को ज्यादा से ज्यादा पानी की जरूरत पड़ती है. जब आप इसे खाते हैं तो यह पेट के पानी को धीरे-धीरे सोखने लगता है. ऐसे में ज्यादा मात्रा में इसे खाना पेट के लिए ठीक नहीं. इससे आपको परेशानी हो सकती है. साथ ही पेट दर्द और ब्लोटिंग की दिक्कत भी शुरू हो सकती है. इसलिए जिन्हें कोई भी चीज पचाने में दिक्कत होती है उन्हें मखाना एकदम कम या नहीं खाना चाहिए.।
किडनी स्टोन की दिक्कत मेंअगर आपको किडनी में स्टोन की शिकायत है तो आपको मखाना नहीं खाना चाहिए. दरअसल, किडनी में स्टोन शरीर में कैल्शियम बढऩे के कारण होती है. ऐसे में अगर आप कैल्शियम से भरपूर मखाने खाते हैं तो यह खतरनाक रूप से ट्रिगर कर सकता है. इसलिए किडनी में स्टोन की शिकायत है तो एकदम मखाना खाने से बचें.डायरिया एकदम भूल से भी न खाएंडायरिया में मखाना खाना एकदम खतरनाक साबित हो सकता है.। मखाना फाइबर से भरपूर है. और फाइबर डायरिया को बढ़ावा दे सकता है. घी में मखाना भूनकर न खाए घी में मखाना भूनकर खाने से डायबिटीज और जिन लोगों को पेट की बीमारी है उनके लिए काफी नुकसानदायक है. क्योंकि घी में भरपूर मात्रा में प्रोटीन होता है और मखाना में फाइबर पाया जाता है. ऐसे में इसे साथ में पचाना नुकसानदायक हो सकता है.

 

 

12 May, 2023

जानें कितनी खतरनाक है अस्थमा की बीमारी, इसके अटैक से बचने के लिए क्या-क्या करना चाहिए
अपने डॉक्टर से सलाह अवश्य लेवे
कोविशील्ड वैक्सीन पर सियासत , विशेषज्ञों ने कहा, घबराने की जरूरत नहीं
राजनीतिक दल एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं।
जेपी अस्पताल में स्क्रीनिंग में , 291 मरीजों में ओरल कैंसर के लक्षण
अस्पताल के डेंटल विंग में यह जांच नि:शुल्क की जा रही है ।
यातायात पुलिसकर्मियों ने मानवीय कार्य हेतु ह्युमन ऑर्गन डोनेट हेतु 40 किलोमीटर लंबा ग्रीन कॉरिडोर बनाया
100 अधिकारी/कर्मचारियों ने कम समय में नियत स्थान पर पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है l
ऑपरेशन के बाद आठ मरीजों की रोशनी हो गई कम, OT सील; कलेक्टर ने जांच के आदेश दिये
शिविर का आयोजन किया गया था उसमें 79 मरीजों की आंखों के ऑपरेशन हुए थे।