Hindi News Portal
भोपाल

प्रधानमंत्री मोदी इंदौर में हुई छह बच्चों की मौत पर सख्त कहा-पूरी तहकीकात करें, कौन है दोषी

भोपाल,08 जुलाई ; इंदौर पंचकुइयां रोड स्थित श्री युग पुरुष आश्रम में छह बच्चों की मौत का मामला अब राष्ट्रीय स्तर पर पहुंच गया है। प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय महिला एवं बाल विकास विभाग की मंत्री अन्नपूर्णा देवी ने एक जांच दल इंदौर भेजा है। जांच टीम की सदस्य डॉ. दिव्या गुप्ता ने कहा कि अब मामला इंदौर का नहीं राज्य और राष्ट्रीय स्तर का हो गया है। उन्होंने कहा कि बच्चों को कितनी गंभीरता से लेना चहिए इसे लेकर पीएम मोदी हमेशा संवेदनशील रहते हैं। उन्होंने आग्रह किया है कि इस विषय को लेकर अआप पूरी तहकीकात करके आएं। जांच कर मामले की विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर सबमिट की जाएगी।
क्या है मामला ? इंदौर के श्री युग पुरुष धाम आश्रम में कई बच्चे एक साथ बीमार हुए। इनमें से छह बच्चों की मौत हो चुकी है। जांच रिपोर्ट में हैजे की बात सामने आई है। आश्रम में बच्चों को पीने के लिए गंदा पानी दिया जा रहा था और भोजन भी सुबह बहुत कम मिल रहा था। यह आश्रम युग पुरुष स्वामी परमानंद गिरी महाराज की प्रेरणा से तुलसी शादीजा ने 2002 में यहां परमानंद हॉस्पिटल शुरु किया। नजदीकी लोगों के मुताबिक कुछ साल पहले यह जमीन किसी महिला ने दान में दी थी। इसके बाद परमानंद गिरी महाराज द्वारा यहां हास्पिटल खोलने के लिए जिम्मेदारी दी गई।

08 July, 2024

अमरवाड़ा विधानसभा उपचुनाव में बीजेपी के प्रत्याशी शाह 3027 वोटो से जीते प्रदेश भाजपा कार्यालय में जश्न मना
दिन-रात पसीना बहाकर पार्टी के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं की जीत
प्राकृतिक रूप से तालाब के पानी को स्वच्छ करने का अद्भुत नवाचार है नीर नवजीवन परियोजना : मुख्यमंत्री डॉ. यादव
मुख्यमंत्री ने किया परियोजना का शुभारंभ
मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव 23 वीं एवं 25 वीं वाहिनी,विशेष सशस्त्र बल के एक पेड़ मां के नाम अभियान के तहत वृक्षारोपण कार्यक्रम में शामिल हुए
मुख्यमंत्री डॉ यादव ने रुद्राक्ष का पौधा लगाकर प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम का शुभारंभ किया
तीन नए कानूनों को लेकर सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति रोहित आर्य की दिवसीय विधिक कार्यशाला
कार्यशाला मै प्रदेशभर के अधिवक्ताओं की संबोधित करेंगे
प्रधानमंत्री मोदी इंदौर में हुई छह बच्चों की मौत पर सख्त कहा-पूरी तहकीकात करें, कौन है दोषी
श्री युग पुरुष धाम आश्रम में कई बच्चे बीमार हुए थे जिनमे छह की मौत हो गई थी ।