Hindi News Portal
भोपाल

कोरोना के चलते पाठ्यक्रम को अधिक रूचिकर एवं संक्षिप्त बनाया गया

भोपाल :, कोरोना संकट काल में विद्यालय बंद रहने के दौरान बच्चों के सीखने के स्तर में कमी न हो तथा वे घर पर ही कुछ न कुछ सृजनात्मक एवं सकारात्मक गतिविधियों में संलग्न रहते हुए अपनी पढ़ाई जारी रखें। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हुए पहली से आठवीं कक्षा के पाठ्यक्रमों को और अधिक रूचिकर एवं संक्षिप्त किया गया है।
आयुक्त राज्य शिक्षा केन्द्र लोकेश कुमार जाटव ने बताया कि कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए नि:शुल्क और अनिवार्य बाल शिक्षा अधिका‍र अधिनियम-2011 के तहत कक्षा पहली से आठवीं तक के लिये निर्धारित पाठ्यक्रम की विषय-वस्तु को 'फेस-टू-फेस मोड' जैसे- क्लास रूम, डिजि‍टल क्लास, रेडियो, टी.वी. क्लास आदि के माध्यम से लगभग 60 प्रतिशत तथा होम असाइनमेंट एवं प्रोजेक्ट वर्क लगभग 40 प्रतिशत के रूप में पुनर्नियोजित किया गया है।

पाठ्यक्रम के पुनर्नियो‍जन से अब बच्चे घर पर ही रूचिकर गतिविधियों के साथ बिना किसी दबाव के अपने पाठ्यक्रम को पूरा कर सकेंगे।

03 September, 2020
Share |

न गरबा का आयोजन होगा, न चल-समारोह की अनुमति होगी , गृह विभाग ने त्यौहारों के लिये निर्देश किये जारी
लाउड-स्पीकर के उपयोग में माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी की गई गाइड-लाइन का पालन करना होगा
सिंगल क्लिक से 22 लाख किसानों के खाते में पहुँचे प्रधानमंत्री फसल बीमा के 4686 करोड़ रुपये
किसानों के हित में लिया निर्णय-प्रदेश में कोई मंडी बन्द नहीं होगी किसान अपनी सुविधा से बेच सकेंगे अपनी उपज –मुख्यमंत्री
समस्याओं के निराकरण के लिये संवाद जरूरी – सारंग
पहले बीएचईएल की सड़क भोपाल की पहचान थी, इसे कायम रखने की जरूरत है
प्रदेश सरकार ने कर्मचारियों के जनरल प्रोविडेंट फाइंड पर दिये जाने वाले ब्याज की दर घटाई, 8 फीसदी से हुई 7.9 फीसदी
सरकार लगातार कर्मचारियों के आर्थिक हितों को नुकसान पहुंचा रही है
मंडी समितियों के कर्मचारी अब मंडी बोर्ड के कर्मचारी होंगे : मंत्री पटेल
मण्डी बोर्ड में आरक्षित निधि में 200 करोड़ रुपये की राशि का फण्ड सुरक्षित रखा जायेगा