Hindi News Portal
लाइफस्टाइल

मिनटों में साफ़ होंगे इन तरीको की मदद से झूठे बर्तनों से जिद्दी चिकनाई

महिला हो या पुरुष सबके लिये घर का किचन एक प्रमुख जगह होती जिसका अपना मह्त्व है । और अगर सबसे पहले ध्यान जाता है तो चमकते हुए किचन और बर्तनों पर। जिसमे आपको अपने बर्तनों की सफाई पर खास ध्यान देने की जरूरत होती है। बर्तन धोना किचन का सबसे बडा काम होता है। ऐसे में बहुत से लोग ऐसे होते है जिन्हें बर्तन धोना बड़ा ही झंझट वाला काम लगता है। लेकिन कुछ बातो को ध्यान में रखकर इसी काम को बहुत आसानी से किया जा सकता है। आज हम आपको कुछ ऐसे तरीके बतायेंगे जिनकी मदद से आप मिनटों में बरतनों की साफ़ कर सकते है तो आइये जानते है इस बारे में...* बर्तन धोने से पहले पूरे घर को चेक कर लें और सारे जूठे बर्तनों को एक ही जगह इकठा कर लें। प्लानिंग से काम करने पर आपको बार-बार भागना नहीं पड़ेगा। बर्तन धुलने की सामग्री जैसे- साबुन, स्क्रबर और तौलिया भी पास में रख लें।* बर्तनों को धुलने से पहले गर्म पानी में भिगो दें ताकि इनसे चिकनाई छूट जाए और इनको साफ करने में ज्यादा मशक्कत न करनी पड़े।*जूठे बर्तनों को पानी से साफ करके किसी अलग टब या स्लैब पर ही रख लें। ऐसा करने से आपका काम भी कम हो जाएगा और आपको बर्तनों से बार-बार जूठन भी नहीं निकालनी पड़ेगी। बर्तनों को स्क्रब करने के बाद उन्हें छोटे से लेकर बड़े के क्रम में धोना शुरू करें।* कांच के बर्तन और चीनी मिट्टी के बर्तनों को धोकर अलग रख लें ताकि इनके टूटने का खतरा कम रहे। चम्मच, कांटे और चाकू भी पहले ही साफ कर लें। बर्तनों को धोने के बाद एक साथ घुसाकर कर न रख दें। पहले इन्हें सूखने दें और फिर किचन टॉवल से पोंछने के बाद रैक में रखें।

 

 

17 April, 2022

अनंत अंबानी की बेशकीमती घड़ी देखकर मार्क जुकरबर्ग हैरान हुए
अन्ंत ने जो घड़ी पहनी है, वह Richard Mille की है,
पिता ने आईएएस बनी बेटी को आईपीएस दामाद के साथ हेलीकॉप्टर से विदाई की , दोनों यूपी में हैं तैनात
साल 2017 में हरियाणा के रोहतक से एमबीबीएस पूरी कर ली,
पापा की परी को रील बनना महंगा पडा , पुलिस ने थमाया 23,500 का चालान
वीडियो के आधार पर ट्रैफिक पुलिस ने कार्यवाही की।
अनोखी नेत्रहीन लड़के और लड़की के प्रेम विवाह, शादी में भी दिव्यांग मेहमान शामिल हुए
परिजनों के अलावा उनके दोस्त और पड़ोसी भी शामिल हुए।
केरल में हाथी ने महावत को पटक-पटक कर मार डाला
26 वर्षों से उसी स्थान पर रह रहा है, जहां मंदिर के हाथियों को रखा जाता है