Hindi News Portal
धर्म

दो बार “राम राम" बोलने के पीछे बड़ा गूढ़ रहस्य है

“राम राम" कहना अपने एक सुकून देने वाला शब्द है जो कभी बोला जा सकता है दिन हो रात सुबह हो या शाम को बोला जा सकता  है  परन्तु कभी यह सोचा है की यह सिर्फ दो बार ही बोला जाता है क्या कारण है जो सिर्फ दो ही बार बोला जाता है हो सकता है अधिकतर लोगो को मालूम हो परन्तु आज के आधुनिक परिवेश मै पलने वाले बच्चो को शायद ही मालूम होगा की इसकी क्या वजह है की राम राम दो बार ही बोला जाता है आर्मी का जवान हो या पुलिस का जवान हो या आम आदमी हो या महिला हो सभी लोग बोलते जो सनातन धर्म मै विश्वास रखते है वो सभी लोग बोलते है और सामने वाले लो सम्मान देते है आइये जानते इसका रहस्य की "राम राम " शब्द दो बार क्या महत्व जानते कि यह आदि काल से ही चला आ रहा है और.....
हिन्दी की शब्दावली में ‘र' सत्ताइस्व्वां शब्द है,
‘आ’ की मात्रा दूसरा और ‘म' पच्चीसवां शब्द है...
अब तीनो अंको का योग करें तो 27 + 2 + 25 = 54,
अर्थात एक “राम” का योग 54 हुआ.
इसी प्रकार दो “राम राम” का कुल योग 108 होगा।
हम जब कोई जाप करते हैं तो 108 मनके की माला गिनकर करते हैं।
सिर्फ 'राम राम' कह देने से ही पूरी माला का जाप हो जाता है।
इसलिए हमेशा इस का प्रयोग दो बार ही किया जाता है अगर आपकी इच्छा हो तो कई बार भी बोल सकते है है तो राम का नाम है
👏🏻 राम राम ...जी 👏🏻

20 October, 2016

तृतीया और चतुर्थी का शुभ संयोग कल, भगवती कूष्माण्डा की उपासना-आराधना का विधान है. इस विधि से करें मां की अराधना, नोट कर लें पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त, आरती और मां का भोग
मां के तृतीय स्वरूप मां चंद्रघंटा और चतुर्थी तिथि पर मां के चतुर्थ स्वरूप मां कूष्माण्डा की पूजा- अर्चना की जाती है।
नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है जाने पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र, आरती और कथा
मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से व्यक्ति को अपने कार्य में सदैव विजय प्राप्त होता है
शारदीय नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाएगी जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और मंत्र।
मा शैलपुत्री नाम शैलपुत्री कैसे पडा जाने पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण माता का नाम शैलपुत्री पड़ा
ऋषि पंच ऋषि पंचमी का व्रत पापों का नाश करने वाला व श्रेष्ठ फलदायी है
सभी महिलाएं व कन्याएं पूरी श्रद्धा भ्क्ति के साथ करना चाहिये । आज के दिन सप्तऋषियों का पूर्ण विधि-विधान से पूजन कर कथा श्रवण करने का महत्व है।
एक ऐसा मंदिर जहां प्रतिमा ही नहीं है , फिर भी लकवे की बीमारठीक होती है और दर्शन करने वालों का लगता है तांता
मान्याता है कि यहां सात दिन व सात रातों तक नियमित रूप से आरती एवं परिक्रमा करने एवं तत्प श्चासत भभूत ग्रहण करने से मरीजों की परेशानी दूर हो जाती है ।