Hindi News Portal
देश

कृषि कानून के मुद्दे पर सरकार हमेशा ही किसान संघों के साथ सरकार बातचीत करती रही है।

 नई दिल्ली : सरकार, कृषि कानूनों से संबंधित मुद्दों के समाधान के लिए किसान संगठनों के साथ सक्रियता से बातचीत करती रही है और आंदोलनकारी किसानों के बीच अब तक 11 दौर की बातचीत हो चुका है । केन्द्री य कृषि और किसान कल्याचण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने राज्योसभा में एक प्रश्नन के लिखित जवाब में उन्हों ने बताया कि इन मुद्दों के समाधान के लिए सरकार तैयार है ।

तोमर ने बताया कि इस बातचीत में सरकार ने हमेशा किसान संगठनों से कृषि कानूनों के प्रावधानों पर चर्चा का अनुरोध किया है ताकि इनके बारे में यदि उनकी कोई आपत्ति है तो उसके समाधान के लिए बातचीत की जा सके। उन्होंोने कहा कि किसान संगठन केवल कृषि कानूनों को वापस लेने पर जोर देते रहे हैं।

कृषि मंत्री ने बताया कि सभी दौर की बातचीत में सरकार ने जोर दिया कि किसानों को कृषि कानून वापस लेने की मांग करने की बजाए इनके प्रावधानों पर अपनी चिंताओं के बारे में चर्चा करनी चाहिए ताकि उनका समाधान किया जा सके। सरकार किसानों के मुद्दों के प्रति संवेदनशील है।

24 July, 2021

Exclusive: गिरफ्तार आतंकी का बड़ा खुलासा, भारत की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाना था मकसद
वीडियो दिखाकर उन्हें ये बताकर भड़काया गया कि इन दंगों के दौरान कैसे विशेष समुदाय की महिलाओं पर अत्याचार किए गए, कैसे विशेष समुदाय के लोगों का सरेआम कत्ल किया गया। बता दें कि, जिशान ने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से फाइनेंस में MBA किया हुआ है।
प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय राजधानी में नये रक्षा परिसरों का उद्घाटन किया। कहा - ये परिसर नये भारत के परिचायक
परिसर का निर्माण दो वर्ष के बजाए एक वर्ष में ही पूरा हो गया। उन्होंने कहा कि कोविड के दौरान इस परियोजना में सैकड़ों श्रमिकों को रोजगार मिला।
डिजिटल कृषि को बढ़ावा देने के लिए निजी कंपनियों के साथ पांच समझौतों पर हस्तानक्षर
किसानों के लिए सुविधाएं बढ़ेंगी ,किसानों के हित में काम करेंगी और उन्हें तकनीकी ज्ञान के साथ लाभकारी खेती के गुण सिखाएंगी
पहली बार श्रीनगर की डल झील के ऊपर भारतीय वायु सेना का एयर शो
इससे पूर्व वर्ष 2008 में भारतीय वायु सेना ने एक शो का आयोजन किया गया था
देश के 36 हजार गांवों में प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना लागू की जाएगी
इस योजना के अंतर्गत पचास प्रतिशत जनजातीय जनसंख्या वाले गांवों को प्राथमिकता दी जाएगी