Hindi News Portal
स्वास्थ

कोमा मै बच्चे के जन्म देने के दो हफ्तो के बाद कोमा से बाहर आई महिला

एक मां के लिये बच्चे को जन्म देना दुसरा जीवन होता है और एक औरत के लिए मां बनना कितना सुखद ऐहसास भी होता है मगर क्या हो जब कोई औरत कोमा में जाने के बाद में बच्चे का जन्म दें और उसे इस बात का ऐहसास करीब 2 सप्ताह के बाद हो । यह मामला फोर्टालेजा है जहां पर एक महिला जिसका नाम अमांडा द सिल्वा है उसने कोमा मे रहते हुए बच्चे को जन्म दिया । आपको बता दें कि बच्चे को जन्म उसने सीजेरियन ऑपरेशन के माध्यम से दिया । मगर जब अमांडा को दो हफ्ते बाद कोमा से बाहर आई , तब उसने अपने बच्चे को हाथ में लिया । बताया जाता है कि अमांडा को मिर्गी के दौरे पड़ते हैं। बता दें कि जिस समय अमांडा को अस्पताल में भती कराया गया था उस समय उसका 37 हफ्ते का गर्भ था।
अमांडा ने इससे पहले करीब 3 बच्चों को जन्म दिया है । इस बच्चे के जन्म के दो हफ्ते बीत जाने पर भी अमांडा कोमा में थी। इसके बाद एक नर्स ने सुझाव दिया कि बेटे को अमांडा की छाती पर रख दिया जाए। जैसे ही ऐसा किया गया और अमांडा की दिल की धड़कनें बढ़ जाने के कारण वह कोमा से बाहर आ गई और अपने बच्चे को अपनी छाती से लगाकर रोने लगी ।


सौजन्य ; Dailyhunt

18 October, 2018
Share |

मुर्गियों से नहीं फैलता कोरोना कुक्कुट उत्पादों का सेवन सुरक्षित है।
चिकन और अंडे मनुष्यों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते है
सुल्तानिया अस्पताल में दुर्लभ प्रसव ; डॉक्टरों ने महिला की जान बचाई
चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. साधौ ने दी चिकित्सक टीम को बधाई
कोमा मै बच्चे के जन्म देने के दो हफ्तो के बाद कोमा से बाहर आई महिला
कोमा में जाने के बाद में बच्चे का जन्म दें और उसे इस बात का ऐहसास करीब 2 सप्ताह के बाद हो
जारी हुई HIV ग्रस्त लोगों की रिपोर्ट, भारत में चिंताजनक है महिलाओं की स्थिति
भारत में 2017 में अनुमान के मुताबिक 21.4 लाख लोग एचआईवी से ग्रस्त थे जिनमें करीब 40 प्रतिशत महिलाएं थीं.
भारत में पहली बार आएगा पॉल्यूशन पर स्टैंडर्ड, हवा में प्रदूषण स्तर की मिलेगी सही जानकारी
प्रदूषण को खत्म करने के लिए सरकार ने बड़ा कदम उठाया है. जानकारी के मुताबिक, दो महीने के भीतर पॉल्यूशन लेवल की सही जांच की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी