Hindi News Portal
व्यापार

एचडीएफसी बैंक का शुद्ध मुनाफा 34% बढ़ा, ब्याज से होने वाली आमदनी में 24.5% का इजाफा

नई दिल्ली 21 अप्रैल : निजी क्षेत्र के सबसे बड़े ऋणदाता एचडीएफसी बैंक का एकल शुद्ध मुनाफा मार्च को समाप्त तिमाही में सालाना आधार पर 37.1 प्रतिशत बढ़कर 16,512 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। तिमाही के दौरान इसकी शुद्ध ब्याज आय (एनआईआई) 24.5% बढ़कर 29,077 करोड़ रुपये हो गई। अपने तिमाही नंबरों की घोषणा करते हुए, एचडीएफसी बैंक ने FY24 के लिए प्रति शेयर ₹19.5 का लाभांश भी घोषित किया। निजी क्षेत्र के ऋणदाता का कोर नेट इंटरेस्ट मार्जिन कुल संपत्ति पर 3.44% और ब्याज़ अर्निंग असेट के आधार पर 3.63% रहा।
एचडीएफसी बैंक ने अपनी फाइलिंग में कहा कि अर्थव्यवस्था में ऋणों का माहौल बेहतर बना हुआ है। बैंक का सभी क्षेत्रों में क्रेडिट प्रदर्शन स्वस्थ बना हुआ है। पिछले तिमाही की तुलना जीएनपीए में 1.24% का सुधार हुआ है।
बैंक की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार उसका नेट एनपीए नेट एडवांस का 0.33% रहा जो एक साल पहले 0.27% और दिसंबर तिमाही में 0.31% था। बैंका रिटर्न ऑन असेट्स यानी आरओए 0.49% रहा जो दिसंबर तिमाही में भी इतना ही था। वहीं, एक साल पहले यह 0.53% था। आंकड़े जारी करने के साथ
एचडीएफसी बैंक के बोर्ड ने एक रुपए के फेस वैल्यु पर 1950 फीसदी यानी 19.5 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड देने का भी ऐलान किया है। इसके लिए 10 मई को रिकॉर्ड डेट तय किया गया है। एजीएम की बैठक में इसपर मुहर लगने के बाद इसे निवेशकों को जारी कर दिया जाएगा। बैंक ने इससे पहले वित्तीय वर्ष 2023 में 19 रुपए का लाभांश दिया था।

 

 

21 April, 2024

14 से 21 जून तक भारत और बांग्लादेश के बीच व्यापारिक गतिविधियां और रेल सेवाएं तक बंद रहेंगी
मिताली एक्सप्रेस और खुलना से कोलकाता जाने वाली बंधन एक्सप्रेस ईद अवकाश के दौरान
गौतम अडाणी मुकेश अंबानी को पछाड़ा कर बने एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति,
अब दुनिया के 11वें सबसे अमीर व्यक्ति बन गए हैं।
इंडिगो के विमान में बम होने की धमकी से मचा हड़कंप, मुंबई में कराई आपात लैंडिंग
जांच में विमान में कोई बम नहीं मिला है।
टाटा के अधिग्रहण के बाद एयर इंडिया ने 18,000 कर्मचारीयो की पहली वेतन वृद्धि की घोषणा की
वेतन वृद्धि और कंपनी और व्यक्तिगत प्रदर्शन के आधार पर
मजबूत भुगतान सेवाओं के लिए UPI, कार्ड प्रोसेसिंग व EMI पर ध्यान केंद्रित करेगा पेटीएम
पेटीएम को सरकार से सबवेंशन भुगतान से लाभ मिलता है