Hindi News Portal
स्वास्थ

सुल्तानिया अस्पताल में दुर्लभ प्रसव ; डॉक्टरों ने महिला की जान बचाई

भोपाल में सुल्तानिया जनाना अस्पताल की अधीक्षक डॉ. अरुणा कुमार के नेतृत्व में आज चिकित्सक टीम ने एक दुर्लभ प्रसव केस में 35 वर्षीय श्रीमती शबनम की जटिल सर्जरी कर जान बचाई। रायसेन जिले के सुल्तानपुर की शबनम के गर्भाशय के स्थान पर ओवरी में बच्चा विकसित हो गया था और 6 माह की गर्भावस्था के बाद ओवरी फट गई थी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ ने सफल ऑपरेशन के लिये डॉक्टर अरुणा कुमार, डॉ. सोना सोनी, डॉ. जूही अग्रवाल, डॉ. नीतू मिश्रा और डॉ. उर्मिला केसरी को बधाई दी है।

डॉ. अरुणा कुमार ने बताया कि मैंने अपने 30 साल के कॅरियर में ऐसा केस नहीं देखा। यह जटिलता 3 से 6 हजार गर्भवती महिलाओं में से एक में पाई जाती है। आमतौर पर चार-पाँच सप्ताह के दौरान गर्भपात हो जाता है, परंतु शबनम के केस में 22 सप्ताह का गर्भ होने से खतरा अत्यधिक बढ़ गया था। रायसेन से आने के बाद कल रात में ही शबनम की जाँचें की गईं, तो सोनोग्राफी की आवश्यकता महसूस हुई। सुबह सोनोग्राफी हुई, तो पता चला कि बच्चा मर चुका है, जो गर्भाशय में न होकर अंडादानी में है। अंडादानी फटने से पूरे पेट में खून भर गया है। तुरंत निर्णय लेकर ऑपरेशन किया गया।

डॉ. कुमार ने बताया कि शबनम अब पूरी तरह से खतरे से बाहर और स्वस्थ है। उसके पहले से 5 बच्चे होने के कारण नसबंदी कर दी गई है। शबनम को आयुष्मान योजना का लाभ दिया जा रहा है।

 

 

 

 

 

16 October, 2019

मुंबई ; कोविशील्ड वैक्सीन का “किंग एडवर्ड मेमोरियल हॉस्पिटल “ में मानव परीक्षण प्रक्रिया शुरू
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन को विकसित किया गया है और भारत में पुणे की सीरम इंस्टिट्यूट इसे तैयार कर रही है.
मुर्गियों से नहीं फैलता कोरोना कुक्कुट उत्पादों का सेवन सुरक्षित है।
चिकन और अंडे मनुष्यों में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते है
सुल्तानिया अस्पताल में दुर्लभ प्रसव ; डॉक्टरों ने महिला की जान बचाई
चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. साधौ ने दी चिकित्सक टीम को बधाई
कोमा मै बच्चे के जन्म देने के दो हफ्तो के बाद कोमा से बाहर आई महिला
कोमा में जाने के बाद में बच्चे का जन्म दें और उसे इस बात का ऐहसास करीब 2 सप्ताह के बाद हो
जारी हुई HIV ग्रस्त लोगों की रिपोर्ट, भारत में चिंताजनक है महिलाओं की स्थिति
भारत में 2017 में अनुमान के मुताबिक 21.4 लाख लोग एचआईवी से ग्रस्त थे जिनमें करीब 40 प्रतिशत महिलाएं थीं.