Hindi News Portal
लाइफस्टाइल

वट पूर्णिमा: पतियों ने पीपल के पेड़ के चारों तरफ उल्टी दिशा में बांधा धागा, पत्नियों से ‘छुटकारा’ पाने के लिए मांगी दुआ

औरंगाबाद: महाराष्ट्र की महिलाओं ने वट पूर्णिमा पर जहां अपने पतियों की लंबी आयु के लिए दुआ मांगी वहीं पुरुषों के एक समूह ने पत्नियों से ‘‘ छुटकारा ’’ की दुआएं मांगीं। बताया जाता है कि ये पुरुष अपनी पत्नियों से पीड़ित हैं। वट सावित्री पूजा के अवसर पर कुछ पुरुषों ने पीपल के पेड़ के चारों तरफ उल्टी दिशा में धागा बांधकर मन्नत मांगी की कि ऐसी पत्नियां सात जन्म तो क्या सात सेकंड के लिए भी नहीं चाहिए।

वट पूर्णिमा को वट सावित्री के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसा पर्व है जहां शादीशुदा महिलाएं बरगद के पेड़ के चारों तरफ धागा बांधकर अगले सात जन्मों तक अपने पति का साथ मांगती हैं। इस दिन हिंदू महिलाएं पूरे दिन उपवास रखती हैं। यह पर्व सावित्री और सत्यवान की कथा पर आधारित है जहां सावित्री ने मृत्यु देवता यम से अपने पति सत्यवान का जीवन ‘‘वापस हासिल’’ कर लिया था।


पत्नी पीड़ित पुरुष संगठन के सदस्यों ने वालुज इलाके में इस पर्व को आज दूसरे तरीके से मनाया। ये पुरुष अपनी पत्नियों से पीड़ित होने का दावा करते हैं। उन्होंने पीपल के पेड़ पर उल्टी दिशा में धागा बांधकर जाप किया, ‘‘अगले सात जन्मों तक ऐसी पत्नी मत देना।’’ संगठन के सदस्य तुषार वाखरे ने कहा, ‘‘हमारी पत्नियां कानूनी प्रावधानाओं का इस्तेमाल कर हमारा उत्पीड़न करती हैं। उन्होंने हमें इतनी दिक्कतें दी हैं कि हम उनके साथ सात सेकंड भी नहीं रहना चाहते, सात जन्म की बात ही छोड़ दीजिए।’’

संगठन के संस्थापक भरत फुलवारे और अन्य सदस्यों ने भादंसं की धारा 498-ए, 354 और घरेलू हिंसा कानून के ‘‘दुरुपयोग’’ को लेकर बैनर दिखाए। एक अन्य सदस्य ने कहा कि उनकी पत्नी ने उनके खिलाफ पुलिस में मामले दर्ज कराए जिस पर उन्हें चार लाख रुपये से ज्यादा खर्च करने पड़े।

एक और सदस्य ने कहा कि उन्हें ऐसी पत्नी नहीं चाहिए क्योंकि वह अपना खाना खुद बनाते हैं और सारे घरेलू काम करते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘उसके कारण मेरी नौकरी चली गई। उसका चेहरा देखने के बजाए मैं मरना पसंद करूंगा।’’
सौजन्य ; खबर इंडिया टीवी

28 June, 2018

जब ऊपर वाला देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है , एक ही नंबर पर 2 बार लॉटरी लगी
अमेरिका के रहने वाले जेफ्री डेमार्को ने 12 सितंबर को लॉटरी के ये टिकट खरीदे थे। उनका जो नंबर था वह था 1-8-12-21-27, और उन्होंने उसके 2 टिकट लिए थे।
1902 के बाद पहली बार दुधवा नेशनल पार्क में दिखाई दिया दुर्लभ ऑर्किड का पौधा
उत्तर प्रदेश के दुधवा नेशनल पार्क में 'लुप्तप्राय प्रजातियों' के श्रेणी में रखा गया एक दुर्लभ ऑर्किड पौधे की किस्म पाई गई है, जिस पर खूबसूरत फूल लगे थे।
आपके मतलब की बात: कोरोना से बचने के लिए कौन सा हैंड सैनिटाइजर लेना फायदेमंद
क्या आपने कभी खरीदने से पहले ध्यान दिया है कि खरीदा गया हैंड सैनिटाइजर एल्कोहल बेस्ड है या नॉन एल्कोहल बेस्ड?
एमपी: डेंटिस्ट ने मरीज के जबड़े से निकाला 39 मिमी लम्बा दांत, गिनीज बुक का रिकॉर्ड तोड़ा
इस दुनिया का सबसे बड़ा और अनूठा दांत डेंटिस्ट सौरभ श्रीवास्तव ने एक मरीज के जबड़े से निकाला है. ये दांत 39 मिमी लम्बा है.
वास्तु टिप्स: खुले स्थान पर झाडू़ रखने से बाहर जाती है अच्छी ऊर्जा
घर या ऑफिस में झाड़ू का काम होते ही उसे नजरों के सामने से हटाकर रख देना चाहिए। पूरे समय झाडू़ का दिखाई देना अच्छा नहीं माना जाता।